Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 11, 2021 · 1 min read

शब्द – नदी

निर्मल जल
बहती तरंगिणी
बेपरवाह ।

नदी शैलजा
कल कल करती
तृप्त धरणी ।

बिना स्वारथ
निर्झरिणी झरती
कृतघ्न सब ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा , 04/06/2021 )

214 Views
You may also like:
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
छलकाओं न नैना
Dr.Alpa Amin
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी कभी।
Taj Mohammad
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह यादें
Anamika Singh
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कर तु सलाम वीरो को
Swami Ganganiya
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
कभी अलविदा न कहेना....
Dr.Alpa Amin
महसूस करो
Dr fauzia Naseem shad
टूटता तारा
Anamika Singh
तकदीर की लकीरें।
Taj Mohammad
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
बचपन
Anamika Singh
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
कह न पाई मै,बस सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
Loading...