Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2021 · 1 min read

शब्द कम नहीं पड़ेंगे !

शब्द कम नहीं पड़ेंगे !
________________

शब्द कम नहीं पड़ेंगे !
हम यूॅं ही लिखते रहेंगे !!

पुस्तकों से लगाव है मुझे इतना !
कि शब्दों में दिखता मुझे सपना !
दुनियाॅं में जो नाम है कुछ करना !
तो करना पड़ेगा साहित्य साधना !!

भावनाऍं उठ रही उफान होंगी !
शब्द-शक्ति ही जब पहचान होंगी !
हर पंक्ति जो सत्वगुण-प्रधान होंगी !
सृजित रचना में तभी कुछ जान होंगी !!

मेरे मन में इक भंडार है !
शब्दों का इक संसार है !
राज्य भाषा से इतना प्यार है !
तभी तो उमड़ते ये अल्फ़ाज़ हैं !!

शब्द कम नहीं पड़ेंगे !
हम यूॅं ही लिखते रहेंगे !!

साहित्य रूपी इस सागर में…
डुबकी जो थोड़ा लगाया हूॅं !
समय-समय पर लेखनी से !
कितनों का हिय लूट पाया हूॅं !!

साहित्य के इस सागर में…
अंदर तक डूब जाऊॅंगा !
गहराई में गोते लगाकर…
हीरे – मोती ले आऊॅंगा !!

हौसलों के उड़ान भरने होंगे !
आत्मविश्वास और बढ़ाने होंगे !
खोए हुए अरमानों को जगाके…
पंखों से सुसज्जित करने होंगे !!

शब्द कम नहीं पड़ेंगे !
हम यूॅं ही लिखते रहेंगे !!

केवल रटी – रटाई हो शब्द नहीं !
मन में भी जगाऍं कुछ शब्द नई !
पास-पड़ोस की हर चीज़ों में ही…
संसार काव्य का ढूंढ़ें सही-सही !!

फूल उपवन में जब तक खिलेंगे !
शब्द मेरे ख्वाबों में तब तक सजेंगे !
उन फूलों की खुशबू जहाॅं तक पहुॅंचेगी !
सुरभि रची रचना की वहाॅं तक बिखरेंगी !!

ईश्वर से इक छोटी सी प्रार्थना है !
कि कृपा अपनी सबपे बनाए रखें….
विशुद्ध लेखन तो साहित्य साधना है !
सही दिशा हम सबको दिखाते चलें !!
सही दिशा हम सबको दिखाते चलें !!

__स्वरचित एवं मौलिक‌ ।

© अजित कुमार कर्ण ।
__ किशनगंज ( बिहार )

7 Likes · 681 Views
You may also like:
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
'कैसी घबराहट'
Godambari Negi
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
'अशांत' शेखर
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
मां
Umender kumar
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
दर्द की कलम।
Taj Mohammad
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे पापा
Anamika Singh
चाय की चुस्की
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपना होता है तो
Dr fauzia Naseem shad
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन
vikash Kumar Nidan
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
समझा दिया है
Dr fauzia Naseem shad
धरती की फरियाद
Anamika Singh
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Arvind trivedi
✍️हाथ के सारे तिरंगे ऊँचे लहराये..!✍️
'अशांत' शेखर
सावन
Shiva Awasthi
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
I feel h
Swami Ganganiya
'चिराग'
Godambari Negi
Loading...