“शब्दों से हारी लो आज मैं “

शब्दों से हारी लो आज मैं ,
अवतरित हो मेरी कलम से,
बह चली जो धारा अविरल ,
छोड़ मुझ अकिंचन को ,
जाने किस सागर की ओर चली,
नित्य, शाश्वत ही रही वह,
तोड़ सब बंधन चली,
कौन जाने किस मोड़ पर ,
मिल जाये कभी वह मुझे ,
आज मैं रोक ना सकी उसे,
खोल सारे वो उद्दगार चली,
कंठ में ही रह गये जो शब्द ,
आज वो लेखनी के डोले पर सवार ,
जाने किस भाव से चली,
टूट कर भी जो खड़ी रही,
आज वो दुर्दिन में छोड़ मुझे ,
उन्मुक्त हो विचरण को चली.
…निधि…

1 Like · 4 Comments · 309 Views
You may also like:
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
पिता
pradeep nagarwal
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H.
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
poem
पंकज ललितपुर
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
पिता
Mamta Rani
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
पानी का दर्द
Anamika Singh
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
अब आगाज यहाँ
vishnushankartripathi7
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
Loading...