Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 26, 2022 · 1 min read

व्यावहारिक सत्य

कुछ समझ में नहीं आता क्या गलत है ?
क्या सही ?
सही को गलत सिद्ध किया जाता है ,
और गलत को सही ,
अब तो यही लगता है , शक्तिसंपन्न यदि गलती करे ,
फिर भी उसे सही करार दिया जाता है,
जबकि शक्तिविहीन निरीह के सत्याधार को भी
समूह मानसिकता के चलते झुठला दिया जाता है ,
वर्तमान युग में सत्य की परिभाषा द्विअर्थी हो गई है,
प्रतिपादित सत्य वह है, जो उसके
अनुयायी विशाल जनसमूह को मान्य है ,
अकाट्य सत्य भी बहुमत के अभाव में
सिद्ध असत्य अमान्य है ,
‘सत्यमेव जयते’ वचन शक्तिविहीनता, प्रतिबद्धता एवं बलिदान के अभाव में धुंधला पड़ गया है ,
कालचक्र के बदलते संदर्भो में अपनी व्यावहारिकता का प्रमाण सिद्ध करने में असफल होकर रह गया है।

1 Like · 4 Comments · 40 Views
You may also like:
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
शहीद होकर।
Taj Mohammad
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
बहुत हैं फायदे तुमको बतायेंगे मुहब्बत से।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
ख्वाहिश
Anamika Singh
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
Anamika Singh
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
Loading...