Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2021 · 1 min read

व्यथा

अपने घर के अंदर
शराबियों के झुंड को देखकर,
उनके बीच अनर्गल बहस
और गाली – गलौच को सुनकर ।
शहर से छुट्टी पर आया हुआ एक माँ के लाल
की व्यथा कौन जाने ?
परेशान होकर माँ से
शिकायत करने लगा ।
कि,
माँ इनको बोलो कि,
यहां से चले जाएं ।
इनमे कोई सभ्यता नाम की,
चीज ही नही है ।
बाहर निकालो इन्हें,
नही तो मैं भगाऊँ क्या ?
सुनकर माँ बेटे को रोककर बोली,
बेटे बुरा तो मुझे भी लगता है पर,
मेरी मजबूरी है ।
ये तू जो शहर में रहकर
पढ़ाई कर रहा है ना
इन्ही लोगो को दारू बेचकर
तेरे कॉलेज की फीस
दे रही हूं ।
बस तेरे पढ़ाई में कोई
बाधा न आये ।
इसलिए मुझे ये सब सहन करना पड़ता है ।
अब इस बालक की “व्यथा” बस बालक
ही जाने ।

गोविन्द उईके

1 Like · 339 Views
You may also like:
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
देश की शान है बेटियां
Ram Krishan Rastogi
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
हमने की वफा।
Taj Mohammad
बस तू चाहिए।
Harshvardhan "आवारा"
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी की हक़ीक़त से
Dr fauzia Naseem shad
✍️मुकद्दर आजमाते है✍️
'अशांत' शेखर
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
स्वतंत्रता दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" परिवर्तनक बसात "
DrLakshman Jha Parimal
मंजिल की उड़ान पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
मिसाल
Kanchan Khanna
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐💐भौतिक: चिन्तनं व्यर्थ:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
*फहराऍं आज तिरंगा (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
शहर-शहर घूमता हूं।
Taj Mohammad
✍️KITCHEN✍️
'अशांत' शेखर
“ आत्ममंथन; मिथिला,मैथिली आ मैथिल “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...