Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

व्यथा….

एक लंबे
अंतराल के पश्चात
तुम्हारा इस घर मेंं
पदार्पण हुअा है
जरा ठहरो !
मुझे नयन भर के तुम्हें
देख लेने दो

देखूं ! क्या अाज भी
तुम्हारे भुजबंध
मेरी कमी महसूस करते हैं ?
क्या अाज भी
तुम्हारी तृषा
मे्रे सानिध्य के लिए
अातुर है ?
जरा रुको
मुझे शयन कक्ष की दीवारों से
उन एकांत पलों के
जाले उतार लेने दो
जहां अपनी नींदों को
दूर सुलाकर
मैनें तिमिर को
सखी बनाया था
रुको तो सही
तुम्हारे स्वागत मेंं मुझे
कक्ष की दीवार पे टंगी
तमाम उलझनों
और तनावों को
हटा लेने दो
ताकि मैं तुम्हें
तुम्हारी तलाश का
वातावरण दे सकूं
बस थोड़ी प्रतीक्षा और
पहले मैं अपने बदन की चद्दर को
मोगरे की महक से महका कर
पलंग पर बिछा दूँ
ताकि तुम्हारे बाहुपाश
मेरे सानिध्य से निराश न होंं
और एकाकार के पश्चात
प्रश्नों की व्याकुलता पर
अंतिम विराम लग जाए
जब तृप्ति अतृप्ति का
खेल समाप्त हो जाए
तब कोहरे में ढकी
अलसाई सी भोर में
बिस्तर की सलवटें में
तुम्हें कुछ सिसकियाँ
सुनाई देंगी
छू के देखना अपने गालों को
मेरे खारे आंसूओं का
गीलापन तुम्हें महसूस होगा
सच मेरे प्रेम के
चरम को तुम समझ न पाओगे
आश्वासनों के चंद शब्दों से
तुम मुझे बहला जाओगे
अपने अधरों से
प्रेम प्रदर्शन कर
फिर लौट जाओगे
पुरुष हो इसलिए तुम शायद
नारी मन की
व्यथा न समझ पाओगे

सुशील सरना

Language: Hindi
Tag: कविता
397 Views
You may also like:
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
भक्तिरेव गरीयसी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
आग
Anamika Singh
"श्री अनंत चतुर्दशी"
पंकज कुमार कर्ण
तथाकथित विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
पिता
Rajiv Vishal
दिल को खुशी
shabina. Naaz
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
यथार्थ से दूर "सेवटा की गाथा"
Er.Navaneet R Shandily
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
दूसरी सुर्पनखा: राक्षसी अधोमुखी
AJAY AMITABH SUMAN
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
चुहिया रानी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
✍️सिर्फ मिसाले जिंदा रहेगी...!✍️
'अशांत' शेखर
हमें हटानी है
surenderpal vaidya
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
कहते हैं कि बदलते हैं लोग इस दुनिया में ।
Annu Gurjar
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...