Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी…

देश औ समाज को लग चुकी है
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी
ऐसे में भला कोई कैसे ग्रहण कर
सकता है सचमुच में जिम्मेदारी
लोकतंत्र से अरसे से गायब
है जिम्मेदारी का अहसास
खामियाजा भुगतने को विवश
आज हर आदमी जो नहीं खास
लोकतंत्र के तीनों अंगों में कहीं
धरातल पर नहीं कोई तालमेल
आम आदमी को दशकों से कैद
किए समस्याओं की जटिल बेल
अर्थव्यवस्था गर्त में पर नेताओं
की सेहत पर तनिक नहीं फर्क
वे जुमले गढ़ पेश करते रहते हैं
जनता के बीच में अजीब तर्क
जहाँ व्यवस्था के लिए घातक
बन जाएं उसके ही पहरेदार
फिर उस देश औ समाज की नैया
कैसे करेगी मुश्किलों की नदी पार

2 Likes · 1 Comment · 77 Views
You may also like:
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
श्यामपट
Buddha Prakash
सड़क दुर्घटना में अभिनेता दीप सिद्धू का निधन कई सवाल,...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️एक ना हुए साकार✍️
'अशांत' शेखर
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक
AJAY PRASAD
✍️ सर झुकाया नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
बेटियां।
Taj Mohammad
चन्द अशआर (मुख़्तलिफ़ शेर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
The shade of 'Bodhi Tree'
Buddha Prakash
खुदा चाहे तो।
Taj Mohammad
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
निशां बाकी हैं।
Taj Mohammad
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
✍️जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
गुनहगार बन गए है।
Taj Mohammad
अपना कंधा अपना सर
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...