Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 7, 2022 · 1 min read

शहीद-ए-आजम भगतसिंह

वो 23 वर्ष का वीर भगत सिंह फांसी पर चढ़ गया, किसकी खातिर ,
हम हिंदुस्तानियों के ,आजादी के खातिर ,
फिर भी हम मे से कुछ लोग बोलते हैं ,
कि चरखे से आजादी आई ,
मैं पूछता हूं उन लोगों से तब चरखा कहां गया था ,
जब उन 3 नौजवानों को फांसी दी जा रही थी,
साहब केवल चरखे से आजादी आई होती,
तो भगत सिंह राजगुरु सुखदेव को फांसी नहीं दी जाती ,
और ना ही महात्मा गांधी को सरेआम गोली मारी जाती
“जिस्म पर लगे हैं
जो घाव वो फूलों के गुच्छे हैं
हां हम पागल हैं
पागल ही रहने दो केवल हम पागल ही अच्छे हैं “(शहीद भगत सिंह)

2 Likes · 2 Comments · 103 Views
You may also like:
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
हम सब एक है।
Anamika Singh
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Little sister
Buddha Prakash
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रफ्तार
Anamika Singh
पापा
सेजल गोस्वामी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार
Anamika Singh
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुध्द गीत
Buddha Prakash
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
पिता
Aruna Dogra Sharma
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Loading...