Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2022 · 1 min read

कौन होता है कवि

मरने के बाद भी जो नहीं मरता
वो होता है कवि
बुझने के बाद भी जो दीया रोशनी दे
वो होता है कवि

हवा की सरसराहट मंत्रमुग्ध कर दे जिसे
वो होता है कवि
खामोशी और सन्नाटा भी बोलता है जिससे
वो होता है कवि

देख पाता है जो बंद आंखों से
वो होता है कवि
समझ जाता है बस चंद बातों से
वो होता है कवि

दिखाता है भटके हुए को सही राह
वही होता है कवि
निकलती है जिसकी हर बात पर वाह
वही होता है कवि

महसूस करता है जो औरों की भावनाएं
वही होता है कवि
दिखती है जिसको कठिनाई में भी संभावनाएं
वही होता है कवि

चिंतन करता है जो हो दिन या रात
वो होता है कवि
कहता है हमेशा जो अपने दिल की बात
वो होता है कवि

जीते जी उसे कोई पहचानता नहीं
गुमनाम रहता है कवि
मरकर छा जाता है जो हर ज़ुबान पर
वो होता है कवि।

13 Likes · 3 Comments · 331 Views
You may also like:
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
बंदर भैया
Buddha Prakash
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
झूला सजा दो
Buddha Prakash
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Meenakshi Nagar
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...