Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-155💐

वो ही बताएँ किस किस से हमारी गुफ़्तगू की,
वो ही पूँछें उनकी कहाँ कहाँ नहीं गुफ़्तगू की।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
जीवन
जीवन
Mahendra Narayan
भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे
भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
आओ मिलके पेड़ लगाए !
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह कौन सा विधान है
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
यादों की गठरी
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
💐Prodigy love-2💐
💐Prodigy love-2💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सपनों की तुम बात करो
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
■ आज का #दोहा...
■ आज का #दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
दोहे मेरे मन के
दोहे मेरे मन के
लक्ष्मी सिंह
है रौशन बड़ी।
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
बचे हैं जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे हैं जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
कोई हिन्दू हो या मूसलमां,
कोई हिन्दू हो या मूसलमां,
Satish Srijan
जय हिन्द , वन्दे मातरम्
जय हिन्द , वन्दे मातरम्
Shivkumar Bilagrami
जिन्दगी से क्या मिला
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*फीता काटने की कला (हास्य-व्यंग्य)*
*फीता काटने की कला (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुलकर बोलो
खुलकर बोलो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...