Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2021 · 1 min read

वो हमसे पराये हो गये

हम जिनका इंतजार किया करते थे,
बड़े शिद्दत से हर खुशी में ।
ना जाने क्यों आज वो,
हमसे पराये हो गये ।।

जिसे काफी चाहा था,
दिलोजान से मैंने,
उसे आज लगते हैं जैसे,
हम किराये के हो गये ।।

हमें जख्म पर जख्म देना,
अब उनकी आदत बन गई ।
डर लगने लगा उनसे हमें,
इसलिये चुप रहने की आदत पड़ गई ।।

परिवार में पाँच लोगों का,
दो समय का खाना बनाना,
अब उनकी मुसीबत बन गई ।
घर में कहलाने वाली वो बहु,पत्नी और माँ,
ना जाने कैसे क्यों वो निर्दयी बन गई ।।

उसे अपनों के साथ,
समय गुजारना अच्छा नहीं लगता ।
घर के लोग भले तरस जायें, बातें करने को,
पर औरों को तरसाना अच्छा नहीं लगता ।।

सास ससुर पति और बच्चा,
उन्हें अब सब पराये लगते हैं ।
उसे पापा मम्मी भाई बहन और जीजा ही,
केवल अपने दिखते हैं ।।

सालगिरह वो मनाती हैं ऐसे,
पति उनका मर गया हो जैसे ।
उन्हें सालगिरह मनाने से,
फायदा क्या होता है ।
जब पति के लिए उसे,
तनिक समय ही नहीं मिलता है ।।

सती हो या सावित्री,
ऐसी तो नहीं होती होंगी ।
जो अपने पति को,
तिल तिल कर रूलाती होंगी ।
उससे प्यार और उसका इंतजार करने के बजाए,
चुपचाप जाकर कमरे में सो जाती होंगी ।।

कवि – मनमोहन कृष्ण
तारीख – 12/06/2021
समय – 11:06 ( रात्रि)
संपर्क – 9065388391

123 Views
You may also like:
✍️सारे अपने है✍️
'अशांत' शेखर
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
नज़्म – "तेरी आँखें"
nadeemkhan24762
Accept the mistake
Buddha Prakash
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
" सच का दिया "
DESH RAJ
यह यादें
Anamika Singh
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
पिता
Rajiv Vishal
ये दिल
Dr fauzia Naseem shad
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दिल भटका मुसाफिर है।
Taj Mohammad
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
✍️मेरी कलम...✍️
'अशांत' शेखर
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
सबसे बेहतर है।
Taj Mohammad
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पलटू राम
AJAY AMITABH SUMAN
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
Loading...