Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-261💐

वो शाम का छः बजकर अड़तीस मिनट,
कभी पूछ लो ज़िंदगी कैसे गई थी सिमट।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिक्षक तो बोलेगा”
पंकज कुमार कर्ण
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
हाय! सुशीला
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नया साल सबको मुबारक
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
प्यारी बहना (रक्षाबंधन)
प्यारी बहना (रक्षाबंधन)
दुष्यन्त 'बाबा'
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
कब किसके पूरे हुए,  बिना संघर्ष ख्वाब।
कब किसके पूरे हुए, बिना संघर्ष ख्वाब।
जगदीश लववंशी
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तकदीर
तकदीर
Anamika Singh
2436.पूर्णिका
2436.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बहाना मिल जाए
बहाना मिल जाए
Srishty Bansal
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
अंकपत्र सा जीवन
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
अन्हरिया रात
अन्हरिया रात
Shekhar Chandra Mitra
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
नारी शक्ति वंदन
नारी शक्ति वंदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ आज का निवेदन...।।
■ आज का निवेदन...।।
*Author प्रणय प्रभात*
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
यही तो मेरा वहम है
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
DrLakshman Jha Parimal
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
'अशांत' शेखर
Writing Challenge- मूल्य (Value)
Writing Challenge- मूल्य (Value)
Sahityapedia
Loading...