Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-76💐

वो मुस्कुराए और दी अज़ीब तसल्ली,
क्रेडिट कार्ड लेकर आ जाओ दिल्ली।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो गए छोड़कर तुमको गोया
जो गए छोड़कर तुमको गोया
Ranjana Verma
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
नव लेखिका
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
कवि दीपक बवेजा
विरह
विरह
Neelam Sharma
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
कांटों में जो फूल.....
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेशवर प्रसाद तरुण
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
💐प्रेम कौतुक-252💐
💐प्रेम कौतुक-252💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मृत्यु
मृत्यु
अमित कुमार
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
इक मुलाक़ात किसी से हो
इक मुलाक़ात किसी से हो
*Author प्रणय प्रभात*
तनहाई की शाम
तनहाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ख्वाहिशों के समंदर में।
ख्वाहिशों के समंदर में।
Taj Mohammad
आज फिर गणतंत्र दिवस का
आज फिर गणतंत्र दिवस का
gurudeenverma198
दुआ
दुआ
Dr Praveen Thakur
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
कुछ तो याद होगा
कुछ तो याद होगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*पचपन का तन बचपन का मन, कैसे उमर बताएँ【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
फ़साना-ए-उल्फ़त सुनाते सुनाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खास हो तुम
खास हो तुम
Satish Srijan
Loading...