Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 16, 2022 · 2 min read

वो बरगद का पेड़

क्या तुम्हे याद है , वो बरगद के पेड़ की छाँव ।
जहां मजमा लगाने आ बैठता था पूरा गांव ।
जहां त्योहारों की खुशियां मनाई जाती थी।
जहां वैद्य जी और कंपाउंडर साहब की दवाइयां सुलभ हो पाती थी ।
जहां थके – हारे राहगीर को बरगद की ठंडी छांव खीच लाती थी।।
जहां की हर डाली पर खुशियों से चिड़िया कितनी चहचहाती थी ।
जहां भवरे और मधुमक्खियां अपनी फूलों के रस से सराबोर होकर अपने घरों को सजाते थे ।
जहां बच्चे बरगद की टहनियों पर खेलते नहीं थकते थे।
जहां सावन में बरगद की डाली झूलों की हार से सज जाते थे ।
जहां हमारी बहने झूलों पर गीतों को गुनगुनाती थी ।
जहां चैता , और होरी के पारम्परिक गीत गए जाते थे ।
जहां देश-दुनिया और राजनीति पर घंटों चर्चे होते थे ।।
जहां वह मिट्टी की दीवार भी जैसे बरगद की संगिनी बने खड़ी थी ।
तभी तो मानो जैसे बरगद को सहारा दिए खड़ी थी।।
वो बरगद ना जाति -पाती का भेद करता था ,
सभी जीव को एक समान प्रेम करता था।
मानव को मानवता का पाठ पढ़ाने को ।
वो पेड़ था इंसानियत का सही राह दिखाने को ।
कोई ऐसा जीव नहीं जिसको देता न था ये आश्रय ।
तभी तो कहते हैं ,कि बरगद में बसते हैं दैव ।।
परंतु यह क्या हुआ ,इस जमाने के इंसानों को ।
मानव ने तो बाट दिया है सबको , देखो इनके कारनामों को ।
कहते ये मेरा है , ये तेरा है ,
ये तेरी भूमि , ये मेरी भूमि , भूमि पर यह पेड़ भी मेरा ।
निज स्वार्थ वश , मानव ने सब छीन लिया सुख सागर का।
थोड़ी सी सुख के खातिर छोड़ दिया आनंद सागर का।
इसी सोच में पड़ा ये बरगद, मन में बोल पड़ा ये बरगद ।
मैने तो कभी यह कहा नही की , यह मेरी डाली , पत्ता मेरा , क्यों करते तुम सब यहाँ बसेरा ।

मानवता को सब भूल गए , द्रव्यों से सब तुल गए ।

हाय ! वह कहां गया युग , जहां चलती थी रामायण की बातें ।
वह कथा भागवत की जहां राधाकृष्ण के प्रेम की होती थी बरसातें।
कहां गए वह हंसी ठिठोली , कहां गई वो नादानी ।
कहां गया वह प्रेम की बातें ,कहां गए वो कहानी ।
कहां गए वो वयोवृद्ध , कहाँ गई वो जवानी ।।
यही सोच में पड़ा वो बरगद , कभी पूछता है अंबर से , की तुम आज भी तो स्वच्छंद हीं हो तुम में तो कोई बदलाव नहीं ।
तो कभी पूछता सूर्यदेव से , की तुम तो पूर्व में उदय होते हो , पश्चिम में होते हो अस्त , तुम में भी कोई बदलाव नहीं।
तो कभी कहता , हे पवनदेव तुम तो सभी के श्वांस के स्वामि हो , तुमने भी वायु बाटा नहीं ।
फिर क्यों इन इंसानों के मन में उमड़ती प्रेम नहीं ।
मैने तो कई पीढ़ियां है देखी , अब मुझमें कोई अभिलाष नहीं ।
आओ अब काट भी दो मुझे भी ,
क्योंकि मानव तुम् पर अब विश्वास नहीं।।
रचनाकार – शिवांशु उपाध्याय

14 Likes · 5 Comments · 331 Views
You may also like:
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
क्या क्या पढ़ा है आपने ?
"अशांत" शेखर
ભીની ભીની લાગણી.....
Dr. Alpa H. Amin
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
आखिर क्यों... ऐसा होता हैं 
Dr. Alpa H. Amin
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
खुदा बना दे।
Taj Mohammad
मंदिर
जगदीश लववंशी
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
डर काहे का..!
"अशांत" शेखर
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
Loading...