Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#12 Trending Author

✍️वो पलाश के फूल…!✍️

✍️वो पलाश के फूल…!✍️
————————————//
वो पलाश के फूल…!
गहरे केसरी लाल
जैसे जंगल में हो आग

वो पलाश के फूल…!
फ़ागुन का संकेत दर्शाते हैं
बसंत का एहसास जगाते है

वो पलाश के फूल…!
थोड़ी हलकी तपती
नर्म धुप में भी
गुजरते जाड़ो की
छांव का आसरा देते है

वो पलाश के फूल…!
मौसम को ख़ुशनुमा करते है,
सृष्टि में कुछ
अज़ीब सी रंगत लाते है

वो पलाश के फूल…!
होली के रंगों की
बहार लाते है
पूरी धरती को अपने
रंग में रंग जाते है

वो पलाश के फूल…!
खाली खाली मन में
तुम्हारी धुंधली यादो के
गहरे रंग भर जाते है
उस वक़्त जो साथ गुजरे
वो पल यूँही छोड़ जाते है..

वो पलाश के फूल…!
अपनी रंगों की कुछ बुँदे
मेरे अश्को में भीगो जाते है
मेरे कोरे कागज़ पर
उस सियाही से
विरह की एक अधूरी
कहानी लिख जाते है…

वो पलाश के फूल…!
मौसम बदलते ही
अब मुरझा गये है…
मेरी तन्हाईयों को
भीड़ में उलझा गये है

वो पलाश के फूल…!
उसकी पंखुड़िया
झड़कर अब सुख गयी है
मेरे उदास जिंदगी की तरह….!

वो पलाश के फूल…!
फिर अगली बहार आयेंगे
मेरी कोशिश रहेगी
फिर दोनों के बीच करार हो,
अपने गलती का इक़रार हो,
एक नयी राह जिंदगी के लिए,
ये सिलसिला यही ख़त्म हो…

वो पलाश के फूल…!
—————————————————–//
✍️”अशांत”शेखर✍️
05/06/2022

4 Likes · 7 Comments · 209 Views
You may also like:
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
ज़िंदगी का ये
Dr fauzia Naseem shad
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
अपनी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
चित्कार
Dr Meenu Poonia
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
गुरु है महान ( गुरु पूर्णिमा पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
भूख
Varun Singh Gautam
श्यामपट
Buddha Prakash
नाम
Ranjit Jha
तपिसों में पत्थर
Dr. Sunita Singh
Loading...