Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

वो पगली न समझी |ग़ज़ल|

वो अन्जान बनती है ज़िंदगी का चैन चुरा के
वो दे गई हजार जख्म दिल में खंजर चुभा के

वो पगली न समझी कभी दिल का दर्द मेरा
इस आलम में छोड़ गई जाने क्यों मुस्कुरा के

क्या कहे उस बेवफा सनम को ,और कैसे जीये
यादों की निशाँ छोड़,दूर है मुझको रुला के

आंखे बन गई है झरने और ज़िंदगी है रेगिस्तान
मैं हो गया फना उस लड़की पे दिल लुटा के

उसने की थी इस अँधेरा ज़िंदगी को रौशन
वो दूर हो गई जाने क्यों इश्क की दीया बुझा के

195 Views
You may also like:
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
हे गुरू।
Anamika Singh
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
साजन जाए बसे परदेस
Shivkumar Bilagrami
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
# पिता ...
Chinta netam " मन "
वह मुझे याद आती रही रात भर।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मित्र
लक्ष्मी सिंह
✍️✍️किरदार चाहिए था✍️✍️
'अशांत' शेखर
कर्म का मर्म
Pooja Singh
बेटी दिवस की बधाई
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
मैं और मेरे उत्प्रेरक : श्री शिव अवतार रस्तोगी सरस...
Ravi Prakash
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
एक खास याद 'बापू' के नाम
Seema 'Tu hai na'
" अनमोल धरोहर बेटी "
Dr Meenu Poonia
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तुलसी गीत
Shiva Awasthi
मन की बात 🥰
Ankita
शब्दों से परे
Mahendra Rai
बुद्ध धम्म हमारा।
Buddha Prakash
बारिश की ये पहली फुहार है
नूरफातिमा खातून नूरी
तेरे बिना सूनी लगती राहें
जगदीश लववंशी
Writing Challenge- रहस्य (Mystery)
Sahityapedia
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
Loading...