Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

वो कहते हैं …

वोह कहते हैं की हमारे समाज में ,
शादी जन्म जन्म का बंधन नहीं।
एक कॉन्ट्रैक्ट है सौदा है बस !
इसके अलावा कुछ भी नही ।
निभ गई खुशी से तो निभ गई ,
वरना बंधे रहने की मजबूरी नहीं।
तीन बार तलाक और फिर मुक्ति,
इसके बाद कोई परस्पर लेन देन नही ।
तो अगर मर्दों को है यह अधिकार ,
तो क्यों औरतों को हक नही ।
वोह भी हो सकती है तुम से नाखुश ,
उन्हें तीन बार तलाक कहने का हक क्यों नही ?
वोह क्यों गुजरे हलाला जैसे अपमान से ,
सजा वोह बेकसूर क्यों भुक्ते तुम क्यों नही ?
गर दे सकते सम्मान और प्यार नही ,
तो उस पर भी कोई रिश्ते का बोझ नहीं ।
और तुम तो घूमों आजाद खुले सांड की तरह ,
ढूढने फिर कोई शिकार कही ।
और वोह क्यों घुट घुट के जिए जीवन ,
तलाक उसके लिए बन जाए दंश ।नही !!
नहीं ! कभी नही ! उसे भी हक होना चाहिए ,
नया सुयोग्य जीवन साथी ढूढने का ,
जो हो कम से कम तुम जैसा तो बिल्कुल नही ।
और वोह काला बुर्का भी क्यों पहन के रखे ,
खुल के सर उठा के चले आजादी से ,
क्यों की शर्म तहजीब में होती है नकाब में नहीं ।

2 Likes · 4 Comments · 126 Views
You may also like:
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
poem
पंकज ललितपुर
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
I know you are not real, just my hallucination.
Manisha Manjari
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
✍️सूर्यज्वाळा✍️
"अशांत" शेखर
'ख़त'
Godambari Negi
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
प्रकृति कविता
Harshvardhan "आवारा"
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
"अशांत" शेखर
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
Gazal sagheer
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
" अत्याचारी युद्ध "
Dr Meenu Poonia
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
"अशांत" शेखर
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
माँ गंगा
Anamika Singh
✍️तुम पुकार लो..!✍️
"अशांत" शेखर
✍️आदत और हुनर✍️
"अशांत" शेखर
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...