Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

वो कहते हैं …

वोह कहते हैं की हमारे समाज में ,
शादी जन्म जन्म का बंधन नहीं।
एक कॉन्ट्रैक्ट है सौदा है बस !
इसके अलावा कुछ भी नही ।
निभ गई खुशी से तो निभ गई ,
वरना बंधे रहने की मजबूरी नहीं।
तीन बार तलाक और फिर मुक्ति,
इसके बाद कोई परस्पर लेन देन नही ।
तो अगर मर्दों को है यह अधिकार ,
तो क्यों औरतों को हक नही ।
वोह भी हो सकती है तुम से नाखुश ,
उन्हें तीन बार तलाक कहने का हक क्यों नही ?
वोह क्यों गुजरे हलाला जैसे अपमान से ,
सजा वोह बेकसूर क्यों भुक्ते तुम क्यों नही ?
गर दे सकते सम्मान और प्यार नही ,
तो उस पर भी कोई रिश्ते का बोझ नहीं ।
और तुम तो घूमों आजाद खुले सांड की तरह ,
ढूढने फिर कोई शिकार कही ।
और वोह क्यों घुट घुट के जिए जीवन ,
तलाक उसके लिए बन जाए दंश ।नही !!
नहीं ! कभी नही ! उसे भी हक होना चाहिए ,
नया सुयोग्य जीवन साथी ढूढने का ,
जो हो कम से कम तुम जैसा तो बिल्कुल नही ।
और वोह काला बुर्का भी क्यों पहन के रखे ,
खुल के सर उठा के चले आजादी से ,
क्यों की शर्म तहजीब में होती है नकाब में नहीं ।

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 5 Comments · 239 Views
You may also like:
प्रवचन में मुनि ज्ञान ने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
#मेरे प्यारे बाबा दादी#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मैं डरती हूं।
Dr.sima
■ नज़्म / धड़कते दिलों के नाम...!
*Author प्रणय प्रभात*
में हूँ हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
दीपक
MSW Sunil SainiCENA
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
जीतकर ही मानेंगे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पढ़ते कहां किताब का
RAMESH SHARMA
*#रामपुर_के_राजा_राम_सिंह
Ravi Prakash
आखिर कौन हो तुम?
Satish Srijan
दलित उत्पीड़न
Shekhar Chandra Mitra
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
"अगली राखी में आऊँगा"
Lohit Tamta
महामारी covid पर
shabina. Naaz
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
जय अग्रसेन महाराज
Dr Archana Gupta
शेर
Rajiv Vishal
अब ना जीना किश्तों में।
Taj Mohammad
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
कौन हिसाब रखे
Kaur Surinder
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
राजनीति का सर्कस
Shyam Sundar Subramanian
बना लो कविता को सखी
Anamika Singh
डूब जाऊंगा मस्ती में, जरा सी शाम होने दो। मैं...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...