Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-449💐

वो कभी कुछ न छोड़ सके दिल में,
बे-एतिबार की मोड़ दिए मेरे दिल में,
मैंने कहा था इक सूखा फूल ही दे दो,
साँझ तले खंज़र वो दे गए मेरे दिल में।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-452💐
💐प्रेम कौतुक-452💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह तुम्हारी गलतफहमी है
यह तुम्हारी गलतफहमी है
gurudeenverma198
इतना घुमाया मुझे
इतना घुमाया मुझे
कवि दीपक बवेजा
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
नेक मनाओ
नेक मनाओ
gpoddarmkg
ਨਾਨਕ  ਨਾਮ  ਜਹਾਜ  ਹੈ, ਸਬ  ਲਗਨੇ  ਹੈਂ  ਪਾਰ
ਨਾਨਕ ਨਾਮ ਜਹਾਜ ਹੈ, ਸਬ ਲਗਨੇ ਹੈਂ ਪਾਰ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Parents-just an alarm
Parents-just an alarm
Nav Lekhika
ऐ जिंदगी तू कब तक?
ऐ जिंदगी तू कब तक?
Taj Mohammad
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
डॉ प्रवीण ठाकुर
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
"दुर्भिक्ष"
Dr. Kishan tandon kranti
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गुफ्तगू की अहमियत ,                                       अब क्या ख़ाक होगी ।
गुफ्तगू की अहमियत , अब क्या ख़ाक होगी ।
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
*प्रबल सबसे बड़ा जीवन में, सब का भाग्य होता है 【 मुक्तक 】*
*प्रबल सबसे बड़ा जीवन में, सब का भाग्य होता है 【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
सिर की सफेदी
सिर की सफेदी
Khajan Singh Nain
मैं उड़ सकती
मैं उड़ सकती
Surya Barman
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
इंसानियत की
इंसानियत की
Dr fauzia Naseem shad
वयम् संयम
वयम् संयम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...