Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2022 · 1 min read

वो एक तुम

वो एक तुम ही बने,
जीने की वजह मेरी,
तुम्हें न भाये यदि
सांसें बेज़ार लगती है ।

तपाया खुद को सदा
जिनकी एक खुशी के लिए
अफसोस उनकी हीं
शामें उदास रहती हैं ।

जाने तकदीर मेरी
चाहती है क्या मुझसे?
मेरी छोटी सी चाहत भी
उसे नाग़वार लगती है ।

पकड़ रखे जो थोड़े
ख्बाब मैंने मुट्ठी में मेरी
कैसे वो छीने बस
इतनी फ़िराक रखती है ।

मैं मना लूंगी तुझे
सौ दफा जो तू रूठे
कभी पर तू भी मनाये
ये आस रहती है ।

वो जिनकी शर्तो में
ढलते रहे सदा ही हम
उन्हें ही शख्सियत
मेरी बेकार लगती है ।

1 Like · 2 Comments · 98 Views
You may also like:
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
ये हरियाली
Taran Singh Verma
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
मंजूषा बरवै छंदों की
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* तेरी चाहत बन जाऊंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मरने के बाद।
Taj Mohammad
मुखौटा
Anamika Singh
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
"अशांत" शेखर
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...