Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author

वोह जब जाती है .

वोह जब भी जाती है ,
बिजली के सारे उपकरणों से ,
कनेक्शन तोड़ जाती है ।
सारे काम घर के ठप ,
कमबख्त कर जाती है ।
दिन हो या रात ,कुछ न देखे ,
बस ! जब जी चाहे चली जाती है ।
जिंदगी में किस कदर निरसता ,
छा जाती है उसके बिना ।
मगर यह बिजली जालिम ,
कहां समझ पाती है ।
उस पर हाय तौबा ! यह गर्मी और उमस ,
हमें तड़पा तड़पा मार डालती है ।
जाने क्यों ! यह बिजली क्यों चली जाती है ।

3 Likes · 13 Comments · 132 Views
You may also like:
कविराज
Buddha Prakash
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
"अशांत" शेखर
Human Brain
Buddha Prakash
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
सीख
Pakhi Jain
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
कशमकश
Anamika Singh
The Magical Darkness
Manisha Manjari
पिता का दर्द
Anamika Singh
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरी सूरत
DESH RAJ
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
Loading...