Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2022 · 2 min read

वैदेही का महाप्रयाण

वैदेही का महाप्रयाण
~~°~~°~~°
अब रहना है जिस हाल,
रहो इस जग में !
माँ सीते तो चली भूमि के तल में…
तूने न्याय कभी जाना ही नहीं ,
अटल सत्य है क्या,पहचाना ही नहीं।
अब रोको न उसको पथ में ,
वो जाएगी अब अपने घर में ।

अब रहना है जिस हाल,
रहो इस जग में !
माँ सीते तो चली भूमि के तल में…

मृत्युलोक सदा विचलित पथ से ,
कभी सत्य का साथ नहीं देती ।
जब जाता कोई रुठकर जग से ,
तो जग के सम्मुख क्रंदन करती ।
जब मान प्रतिष्ठा नहीं उपवन में ,
पाया नहीं सिया सुख जीवन में ,
फिर रोको नहीं उसको मग में…

अब रहना है जिस हाल,
रहो इस जग में !
माँ सीते तो चली अपने गृह में…

देखो अब धरा भी कम्पित है ,
मिथ्या आरोपों से,वो कितनी अमर्षित है।
व्यथा से फटेगा,जब कलेजा उसका,
वैदेही को गोद लेगी वसुधा।
युगों युगों से, रीत यही जग की ,
झूठ हँसता है, सत्य सदा रोता।
जब भाव निष्ठुर हो,जनजीवन में ,
माँ सीते क्यूँ रहेगी,अम्बर तल में।

अब रहना है जिस हाल,
रहो इस जग में !
माँ सीते तो चली भूमि के तल में…

अब सोच रहा है, क्या धरणीधर ?
अटल रहो तुम भी,अपने पथ पर ।
धरा खण्डित होगी,तुम हिलना भी नहीं ,
कर्मपथ से विचलित, तुम होना भी नहीं।
धरा पुत्री,प्रलय कभी चाहेगी नहीं,
श्रीराम यदि कर्मपथ है, वो रोयेगी नहीं।
पत्थर रख लो,अब तुम दिल पे ,
वैदेही महाप्रयाण करेगी वसुधा में।

अब रहना है जिस हाल ,
रहो इस जग में !
माँ सीते तो चली अपने गृह में…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २४ /१२/२०२२
पौष,शुक्ल पक्ष,प्रतिपदा , शनिवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

3 Likes · 420 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ज़िंदगी अगर आसान होती🍀
ज़िंदगी अगर आसान होती🍀
Skanda Joshi
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
रंग भरी एकादशी
रंग भरी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Rashmi Mishra
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
शुभारम्भ है
शुभारम्भ है
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
तेरी सख़्तियों के पीछे
तेरी सख़्तियों के पीछे
ruby kumari
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
ऐसा भी नहीं
ऐसा भी नहीं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
हिंदी दोहा बिषय:- बेतवा (दोहाकार-राजीव नामदेव 'राना लिधौरी')
हिंदी दोहा बिषय:- बेतवा (दोहाकार-राजीव नामदेव 'राना लिधौरी')
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐अज्ञात के प्रति-103💐
💐अज्ञात के प्रति-103💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दाँत मंजन रोजाना( कुंडलिया )*
*दाँत मंजन रोजाना( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
#लघु_व्यंग्य
#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
डॉ प्रवीण ठाकुर
वह जो रुखसत हो गई
वह जो रुखसत हो गई
श्याम सिंह बिष्ट
माना के तुम ने पा लिया
माना के तुम ने पा लिया
shabina. Naaz
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...