Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 8, 2016 · 1 min read

वृद्धाश्रम

बूढ़ी आँखों से
बरसता है दर्द हर क्षण
रात के सन्नाटे मेः
जगमगाती स्मृतियों के बीच
बिखर बिखर जाता है मन
गीला तकिया टीस उठता है बार बार

मन में रह रह कर उफनती है
किलकारियों की नदी
मासूम शरारतों और तुतलाती बोली से
गूंज उठती है अकेली कोठरी
बिखरा मन कुछ और टूट जाता है

पूरी पूरी रात
झुर्रियों भरे चेहरे पर
आड़ी तिरछी रेखायें बनाते आंसू
तलाशते रहते हैं अपना अर्थ
बेहद उदास हो उठती है
वृद्धाश्रम के किनारे बहती नदी ।

1 Like · 2 Comments · 514 Views
You may also like:
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
जाऊं कहां मैं।
Taj Mohammad
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Shailendra Aseem
शीतल पेय
श्री रमण
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
बदरिया
Dhirendra Panchal
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
ख़ुशी
Alok Saxena
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
बेजुबान
Dhirendra Panchal
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...