Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

वृद्धाश्रम में

माँ बाप ने मन्नतो का ढ़ेर लगाया होगा
तब कहीं जाकर घर का चिराग पाया होगा

तेरी सलामती खातिर दुआ अर्ज़ करने
कई मंदिरों मस्जिदों मजारो पे शीश नवाया होगा

तेरा हर ख़्वाब पूरा करने की चाह में,
ख़ुद के अरमानों का गला दबाया होगा

स्वयं के सपनों को आग लगाई होगी
तब कहीं जाकर तेरा हर स्वप्न सजाया होगा

और जब तू उन्हें वृद्धाश्रम छोड़ आया आज
सोच तुमने सब कुछ खोकर क्या पाया होगा

368 Views
You may also like:
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मानव स्वरूपे ईश्वर का अवतार " पिता "  
Dr. Alpa H. Amin
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
नूर
Alok Saxena
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीपावली
Dr Meenu Poonia
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H. Amin
मरने के बाद।
Taj Mohammad
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
Nature's beauty
Aditya Prakash
नारियल
Buddha Prakash
✍️कुछ राज थे✍️
"अशांत" शेखर
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...