Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#27 Trending Author

वृक्ष थे छायादार पिताजी

राम भजे हर बार पिताजी
थे भक्ति का अवतार पिताजी

नाव लगाई हरदम द्वारे
तूफां में पतवार पिताजी

घर बगिया को खूब सजाया
थे फूलों का हार पिताजी

लड़ जाते थे हर मुश्किल से
आँधी में दीवार पिताजी

छाँव में उनकी हम सब पनपे
वृक्ष थे छायादार पिताजी

•••

_______________________
*7 फरवरी, सन 2005 ई. को हृदय गति रुक जाने से पिताश्री शिव सिंह जी का निधन हुआ। उनका जन्म शिवरात्रि, 1938 ई. को हुआ था। मृत्यु से पूर्व भी उनकी जिव्हा पर राम जी का ही नाम था। राम-राम कहते हुए ही रामभक्त ने प्राण त्यागे।

12 Likes · 29 Comments · 330 Views
You may also like:
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
तेरा नाम।
Taj Mohammad
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️उलझन✍️✍️
'अशांत' शेखर
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
पेश आना अब अदब से।
Taj Mohammad
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
सिपाही
Buddha Prakash
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
मोहब्बत।
Taj Mohammad
समाजसेवा
Kanchan Khanna
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
बेचने वाले
shabina. Naaz
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम कथा
Shiva Awasthi
Loading...