Oct 18, 2016 · 1 min read

वृक्ष की उपादेयता: वृक्ष केवल अचल,हेते नहीं:: जितेंद्रकमलआनंद ( ४७)

घनाक्षरी :: क्रमॉक ४७

वृक्ष केवल अचल होते नहीं जडवत,
सुनो वत्स! यह तो विश्व जीवन आधार हैं ,।
प्राणियोंके रक्षक तरु मीत हैं समाज के ,
इनसे भी होता पालित सकल लंसार बै ।
आपके हितों के प्रति सजग तत्पर तरु,
करते प्रदानफल , यॉ औषधि- उपहार हैं ।
वे पर्यावरण – हित ,विशाल अंश- दान भी —
प्राणियों पर करते ये आये उपकार हैं ।।

—– जितेन्द्र कमल आनंद

276 Views
You may also like:
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
इस शहर में
Shriyansh Gupta
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
"साहिल"
Dr. Alpa H.
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H.
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
गधा
Buddha Prakash
Loading...