Oct 6, 2016 · 2 min read

वीर जवानों को समर्पित वीर छंद (आल्हा)…

क़त्ल जवानों का क्यों करते? छोड़ो राजनीति का राग,
नीति-नियंता अब तो जागो, लगी हुई है घर में आग.

सेक्युलरों सॅंग बने मदारी, खेल रहे जो मारक खेल,
सैनिक बन विषहीन सर्प से, झेल रहे विषधर बेमेल.

जिन पर पत्थर बरस रहे हैं, बाँधे क्यों हो उनके हाथ,
अंग-अंग होता विदीर्ण है, फोड़ दिए जाते हैं माथ.

हुए अठारह जो शहीद हैं, निद्रा में क्यों डाला मार?
मांग रहा उनका हिसाब है, देश आँख में भर अंगार.

बिलख रही उनकी विधवायें, कुपित आज है सारा देश,
दुश्मन का जब लहू गिरेगा, तभी धुलेगें उनके केश.

तुष्टीकरण पड़ेगा भारी, सेक्युलरों का कातिल साथ,
लाल तुम्हारा भी घर होगा, यदि बाँधे सेना के हाथ.

खाट पार्टी करना ऊपर, धरा रहेगा सारा ठाठ.
सत्ता है पर मोह व्यर्थ है, आखिर में पाओगें काठ.

रोड़ा बनते जो राहों में, नहीं देश से उनको प्यार,
पाकपरस्तों का फन कुचलो, आस्तीन के विषधर भार.

अभी समय है जागो सुधरो, अगर देश से करते प्यार,
टूट मनोबल कभी न पाए, गरजो करो शक्ति संचार.

कूटनीति को जानो समझो, पाक-नवाजों को दो कूट,
बाद नीतिगत बात करेंगे, दो सेना को खुलकर छूट.

छूट उन्हें भी जो ‘बबलू’ सम, बंद जेल में हैं खूंखार,
करो प्रशिक्षित पाक भेज दो, दाउद हाफिज बंटाधार.

दुश्मन मछली बनकर तड़पे, चटक-चटक फट जाएँ अंग,
कूटनीति के अंतर्गत ही, ‘सन्धि सिन्धु-जल’ कर दो भंग.

संयंत्रों को चिह्नित करके, दुश्मन को दो जमकर कष्ट,
तान तान ब्रह्मोस मिसाइल, नाभिकीय बम कर दो नष्ट.

वीर शिवाजी की पद्धति से, युद्ध करो बस छापामार,
पाकिस्तान मिटा दो जालिम, आतंकी हर डालो मार.

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

673 Views
You may also like:
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
आप कौन है
Sandeep Albela
पिता
Saraswati Bajpai
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे पापा।
Taj Mohammad
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
ग़ज़ल
kamal purohit
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
मैं
Saraswati Bajpai
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माँ
Dr Archana Gupta
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
अरदास
Buddha Prakash
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
Loading...