Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#20 Trending Author

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे

न घटे क़िस्साख़ान में, जलियाँवाला दौर
वीर चन्द्र सिंह ने किया, इन बातों पे ग़ौर

नहीं चलेगी गोलियाँ, निहत्थों पे हुज़ूर
क्यों दें उनको सज़ा, जिनका नहीं क़ुसूर

नहीं चलाई गोलियाँ, तो कहा राष्ट्र द्रोह
क़िस्साखानी में किया, सेना ने विद्रोह

वीर चन्द्र सिंह ने रखा, मानवता का मान
हरगिज़ ना लेंगे कभी, बेक़ुसूर की जान

बेक़ुसूर पे गोलियाँ, वीरों का अपमान
नहीं चलेगी गोलियाँ, घटे हमारी शान

जलियाँवाला बाग़ सा, विफल किया प्रयास
था पेशावर काण्ड वो, है गवाह इतिहास

था कप्तान रिकेट का, हुक्म—’हो रक्तपात’
थे धन्य वीर चन्द्र सिंह, किया नहीं उत्पात

निर्दोषों पे गोलियाँ, मारे न महावीर
बन्दूकें नीचे करो, ओ भारत के वीर

•••
_____________________
*ये इतिहास में पेशावर काण्ड से मशहूर घटना है। वाक़्या 23 अप्रैल 1930 ई. को तब दरपेश आया। जब हवलदार मेजर चंद्र सिंह भंडारी जी यानि वीर चंद्र सिंह गढ़वाली जी के नेतृत्व में क़िस्साखानी बाज़ार (पेशावर, अब पाकिस्तान) में लालकुर्ती खुदाई खिदमदगारों की एक आम सभा में अंग्रेज कप्तान रिकेट ने गोली चलाने का हुक्म दिया। वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली जो कि उसी अंग्रेज कप्तान रिकेट की बगल में ही खड़े थे। अतः उन्होंने तत्काल ‘सीज ‘फायर’ का हुक्म दिया और सैनिकों से बन्दूकें नीचे करने को कहा। इतना होने के बाद वीर चन्द्र सिंह ने रिकेट से कहा—“सर, हम निहत्थों पर गोली नहीं चलायेंगे।” हालाँकि वीर चंद्र सिंह के विद्रोह के बाद अंग्रेजी हुकुमत ने अंग्रेजो की फौजी टुकड़ी से ही गोली चलवाई। लेकिन वीर चन्द्र सिंह का और गढ़वाली पल्टन के उन जांबाजों का यह अदभुत और असाधरण साहस था जो ब्रिटिश हुकूमत की खुली चुनौती और विद्रोह था।

1 Like · 153 Views
You may also like:
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे गुरू।
Anamika Singh
हिरण
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अधुरा सपना
Anamika Singh
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
हमारे पापा
Anamika Singh
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
घुसमट
"अशांत" शेखर
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
मत करना
dks.lhp
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
परिणय
मनोज कर्ण
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...