Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
May 11, 2022 · 1 min read

विसाले यार

हर किसी को विसाले यार ना मिलता है।
कद्रदान तो बहुत है दिले यार ना मिलता है।।

कहने को तो भीड़ से घिरे है हम हमेशा।
एहसासों को जो समझे,इंसा ना मिलता है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

130 Views
You may also like:
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
यादें
Sidhant Sharma
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
के के की याद में ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हारे हाथों में।
Taj Mohammad
पैसा
Arjun Chauhan
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
गंगा दशहरा
श्री रमण
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
खींच तान
Saraswati Bajpai
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H. Amin
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...