Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#30 Trending Author
Mar 18, 2017 · 2 min read

“ विश्वास की डोर ”

कठिन पथरीली राहों पर चलकर जीवन की मंजिल पा ही लेंगे ,
जमाना कुछ भी कहे, दिलों में मोहब्बत का “दिया” जला ही देंगे I

“विश्वास की डोर ” से मेरे जीवन की पतंग आसमान में उड़ती गई ,
“प्यार के धागे” से मेरी पतंग आसमान की ऊंचाईयों को छूती गई ,
“ईमान के कागज ” से सजी पतंग बिना खौफ खूब निखरती गई ,
लाख तूफ़ान आये आसमान में, फिर भी मेरी पतंग आगे बढ़ती गई I

कठिन पथरीली राहों पर चलकर जीवन की मंजिल पा ही लेंगे ,
जमाना कुछ भी कहे, प्यार का पौधा हर एक दिल में उगा ही देंगे I

“नफरत के मांझे ” ने इसे दूर आसमान में बहुत डराया ,
“घ्रणा- द्वेष ” के काले बादलों ने हमेशा इसको सताया ,
“फरेब” की बिजलियों का साया इसपर हर पल मंडराया ,
“ जग के मालिक ” की एक नज़र ने इसे सबसे बचाया I

कठिन पथरीली राहों पर चलकर जीवन की मंजिल पा ही लेंगे ,
“इंसानियत का फूल ” गुलशन में चौतरफा खिलाकर ही जायेंगे I

“राज” विश्वाश की पतवार से “जीवन की कश्ती ” तेरी पार ही हो जाएगी ,
एक न एक दिन अपने जीवन के अंतिम मंजिल तक जरूर पहुँच ही जाएगी ,
“ परम पिता ” के दरबार में इस गुनाहगार की फरियाद जरूर सुनी जाएगी ,
कश्ती “जग के मालिक” के चरणों की धूल लाकर मेरे माथे जरूर लगाएगी I

कठिन पथरीली राहों पर चलकर जीवन की अंतिम मंजिल पा ही लेंगे ,
“परम पिता” की दी कलम से , प्यार की खुसबू बिखेर कर ही जायेंगे I

देशराज “ राज ”

1 Like · 1 Comment · 476 Views
You may also like:
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
मित्र
लक्ष्मी सिंह
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
बस तू चाहिए
Harshvardhan "आवारा"
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
बंजारों का।
Taj Mohammad
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️हर बूँद की दास्ताँ✍️
'अशांत' शेखर
मुझसे तो होगा नहीं अब
gurudeenverma198
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
✍️✍️ठोकर✍️✍️
'अशांत' शेखर
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
गौरव है मेरा, बेटी मेरी
gurudeenverma198
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
वक्त।
Taj Mohammad
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
You are my life.
Taj Mohammad
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*** " चिड़िया : घोंसला अब बनाऊँ कहाँ....??? " ***
VEDANTA PATEL
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
Loading...