Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 15, 2022 · 1 min read

विवश मनुष्य

जब मनुष्य होता विवश
रहता किसी के परवश
चाह करके भी वो नर
ना उठा सकता पदवी ।

किसी के साथ हमें
कभी न होए विपुल
निपट हितना ही हमें
अक्सर हमें देती ठेसे़ं ।

कई बार अधिनस्थ ही
किसी के वश्य रहकर
कर देते त्रुटिपूर्ण कार्य
हमें इनसे से सदा बचे ।

अवर मनुष्य की ताबेदारी का
कोई भी नर उठा लेता मुनाफा
मातहत रहकर हम मनुजों को
कभी ना जीना चाहिए भव में ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

109 Views
You may also like:
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
पिता
Shankar J aanjna
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
अब तो सूर्योदय है।
Varun Singh Gautam
चांद
Annu Gurjar
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
बरसात
प्रकाश राम
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
नवगीत
Sushila Joshi
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr.Alpa Amin
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
मेरा इंतजार करना।
Taj Mohammad
दौर।
Taj Mohammad
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Neha Sharma
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
दर्द आवाज़ ही नहीं देता
Dr fauzia Naseem shad
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
Loading...