Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

#विरोधाभाषी परिभाषाएं

?? विरोधाभाषी परिभाषाएं ??
??????????

*वो दाता हम दीन हो गए, ज्यों भारत को चीन हो गए।*
*रसगुल्लों के बीच सड़ी-सी, हम कड़वी नमकीन हो गए।*
वो दाता हम दीन हो गए….

*पथदर्शक जिनको माना था, आज वही पथहीन हो गए।*
जप-तप छोड़ तपस्या कामी, राग-द्वेष लवलीन हो गए।
*कालनेमि के वंशज सारे, ज्ञान-बुद्धि खो बैठे अपनी।*
चित्र-चरित्र बिगाड़े क्यों अब, क्या महंगे *कोपीन* हो गए।
वो दाता हम दीन हो गए…..

*संस्कार-संस्कृति भी धूमिल, चहरे आज मलीन हो गए।*
फिल्मकार कवि लेखक सारे, सहिष्णुता की बीन हो गए।
*महिलाओं पर गाज गिरी है, चोटी कट जातीं रातों को।*
निर्मल राम-रहीम प्रदूषित, *वर्णशंकरी जीन* हो गए।
वो दाता हम दीन हो गए…..

*कर विश्वास जिन्हें सत्ता दी, घर भरने में लीन हो गए।*
ऊँचे पद जिनको बैठाया, वे असुरक्षित दीन हो गए।
*राजनीति के नागनाथ सब, सांपनाथ हो डसें देश को।*
सत्तामद में चूर संपोले, *रिपुओं के आधीन* हो गए।
वो दाता हम दीन हो गए…..

*चोर उचक्के ठग व्यभिचारी, दौलत जोड़ कुलीन हो गए।*
सत्ता का संग पाकर इनके, सुर औ ताल महीन हो गए।
*मौका पाकर लूट रहे हैं, देश समझ जागीर बाप की।*
जिन कुकुरों को द्वार बिठाया, वो *गांधी के तीन* हो गए।
*वो दाता हम दीन हो गए, ज्यों भारत को चीन हो गए।*
*रसगुल्लों के बीच सड़ी-सी, हम कड़वी नमकीन हो गए।*

??????????
? *तेज* ✏मथुरा✍

271 Views
You may also like:
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
अनामिका के विचार
Anamika Singh
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...