Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

‘ विरोधरस ‘—4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज

‘विरोध-रस’ स्थायी भाव ‘आक्रोश’ से उत्पन्न होता है और इसी स्थायी भाव आक्रोश को उद्दीप्त करने वाले कारकों में सूदखोर में, भ्रष्ट नौकरशाह, भ्रष्ट पुलिस, नेता, साम्प्रदायिक तत्वों के अतिरिक्त ऐसे अनेक कुपात्र हैं जो समाज की लाज के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। एय्याशी इनकी नसों में खून की तरह दौड़ रही है। इनके भीतर पवित्र रिश्तों की कहानी भी हनीमून की तरह दौड़ रही है। भोग-विलासी स्वभाव के ये लोग कलियों को मसलते हैं। इनके सोच बहिन, बेटियों, मां, भान्जी, भतीजी को लेकर वासना में फिसलते हैं। कोठे के भोग-विलास लेकर अबला, अबोध बालिकाओं के साथ ये बलात्कार करते हैं।
दुष्ट लोगों का एक अन्य वर्ग ऐसा है जो जहर देकर आदमियों को ट्रेनों या बसों में लूटता है। जेबें कतरता है। अटैचियां उड़ाता है। लोगों को मूर्ख बनाता है। अपने साधुई रूप में धनवृद्धि का लालच देता है और ठगकर चला जाता है।
धन के लोभ या लालच का संक्रामक रोग कुछ समय को सुविधा या भोग का योग जरूर बनाता है, लेकिन इस लालची सभ्यता के कारण जाने कितने लोगों की खुशियों का चीरहरण होता है, इसे जानने की फुरसत किसे है। धन के लालच में डाॅक्टर मरीज की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहा है। सास, गरीब-बाप की बेटी-बहू को कुलटा कुलक्षणी बता रही है। उसे घर से बाहर निकाल रही है। उसके मां-बाप की इज्जत उछाल रही है।
जमीन-जायदाद के झगड़े आज आम हैं। थाने या अदालत में भाई, चाचा, ताऊ, पिता पर मारपीट के इल्जाम हैं। धन जुटाने की तीव्र होड़ आज एक को सम्पन्न तो एक को निचोड़ रही है। समाज या परिवार के रिश्ते-नातों को तोड़ रही है। धन पाने के लिये कोई नकली नोट बना रहा है, तो कोई धनिये में लीद मिला रहा है। कहीं नकली दवा का कारोबार है तो कहीं जाली नोटों और स्टाम्पों के बलबूते आती हुई रोशनी के पीछे ठगई, शोषण, डकैती के माल का कमाल है। यह मकड़ी का ऐसा बुना हुआ एक ऐसा जाल है जिसके भीतर शेयर बाजार जैसी उछाल है।
——————————————————————
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ‘ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
मो.-9634551630

145 Views
You may also like:
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
What you are ashamed of
AJAY AMITABH SUMAN
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
अनामिका सिंह
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता
Keshi Gupta
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
Human Brain
Buddha Prakash
Accept the mistake
Buddha Prakash
हाय रे ये क्या हुआ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
'बेदर्दी'
Godambari Negi
Loading...