Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

‘ विरोधरस ‘—18. || विरोध-रस की पूर्ण परिपक्व रसात्मक अवस्था || +रमेशराज

स्थायी भाव आक्रोश जागृत होने के बाद आश्रय में घनीभूत होने वाले ‘विरोध-रस’ से सिक्त अपमानित-प्रताडि़त-दमित-उत्कोचित और पीडि़त व्यक्ति की रस-दशा कैसी और किस प्रकार की होती है, उसे आश्रय के अनुभावों द्वारा स्पष्ट रूप से पहचाना सकता है।
‘विरोध-रस’ का स्थायी भाव ‘आक्रोश’ जब अपनी जागृत अवस्था के चरम पर पहुंचता है तो इसके भीतर से संचारी भाव दैन्य, उत्साहहीनता, शोक, भय, जड़ता, संताप आदि तो अपनी-अपनी भूमिका निभाकर शांत हो जाते हैं, सिर्फ जागृत रहता है क्षोभ, विषाद, व्यग्रता के बाद तीक्ष्ण आक्रोश। आक्रोश ही विरोध-रस की पूर्ण परिपक्व रसात्मक अवस्था है |
————————————————–
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
मो.-9634551630

175 Views
You may also like:
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
शिव शम्भु
Anamika Singh
पंचशील गीत
Buddha Prakash
कहानियां
Alok Saxena
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मांँ की लालटेन
श्री रमण
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
हिरण
Buddha Prakash
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
सौगंध
Shriyansh Gupta
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H. Amin
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
Loading...