Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 24, 2019 · 1 min read

विरांगना का उदघोष

हर आंख में आंसू बह रहे थे,
पर वह तो आंसू पी गयी थी,
सुबक रहे थे जहां सब नर-नारी,
वह दृढ-निश्चयी अडिग खडी थी,
लोग दे रहे थे गमगींन विदाई,
वह निशछल भाव से देख रही थी,
जब देने लगी वह विदाई,
तो प्यार से उसे चूम रही थी,
और जय हिन्द का उदघोष करती निकिता,
विरांगना भी बन गयी थी।
उम्र के इस पडाव पर, अभी देखा ही क्या था,
अभी-अभी तो गृहस्थी बसी थी,कि
तभी पुलवामा सामने आ गया,
जो सपने संजोए थे खुशियों के,
पुलवामा उन्हें खा गया,
अनहोनी यह कैसी घट गयी,
अरमानो को जला गया,
घर रह गया नर विहीन,
विभूति जैसा लाल चला गया।

1 Like · 155 Views
You may also like:
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
कुछ समझ में
Dr fauzia Naseem shad
ख्वाहिश है बस इतना
Anamika Singh
नहीं छिपती
shabina. Naaz
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
✍️करम✍️
"अशांत" शेखर
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
दिल की तमन्ना।
Taj Mohammad
The flowing clouds
Buddha Prakash
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
सावन सजनी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
✍️एक कन्हैयालाल✍️
"अशांत" शेखर
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
और मैं .....
AJAY PRASAD
साथ किसने निभाया है
Dr fauzia Naseem shad
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...