Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

प्रीत की चादर

बदली ने ओढ़ प्रीत की चादर , भू को आज भिगोया है
और धरा ने फैला बाहें, बूंदों को सीने में पिरोया है …………..

नाचे मोर पपीहा गाए,झूम झूम सावन हरसाये
एक जोगन ने आँखों में ,विरहा राग सँजोया है …………..

क्रन्दन ये उर की ज्वाला,तेरे नाम की जपती माला
पीड़ जिया की देख के उसकी,नील गगन भी रोया है …………..

झर-झर, निर्झर बरसा पानी, भूल सत्य मन करता नादानी
सूखे आंचल में उसने अपनी, आस का अंकुर बोया है …………..

युग बीते मेरी क्षुधा अधूरी, जैसी भी हूँ कृति मैं तेरी
काहे देई मोहे जन्मन फेरी, हूँक कहे तू क्यों सोया है …………..

तू जाने का प्रीत हमारी, मैं का जानूं प्रीत तिहारी
तेरी ही इच्छा पाई लगन, माणिक ज्ञान पिरोया है …………..

यदि तेरी मैं बन पाऊं, अन्त श्वांस मैं तुझमें समाऊँ
तू स्वामी अन्तर्यामी, श्रीं चरणों में खुद को धोया है …………..
…………………………………………………………………

9 Likes · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
पूर्वार्थ
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
2479.पूर्णिका
2479.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
दोस्ती तेरी मेरी
दोस्ती तेरी मेरी
Surya Barman
आईना
आईना
Dr Parveen Thakur
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
जिंदगी
जिंदगी
Madhavi Srivastava
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
■ मसखरी
■ मसखरी
*Author प्रणय प्रभात*
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
Loading...