Jan 17, 2022 · 2 min read

” विभाजित व्यक्तित्व .. बनाम ..सम्पूर्ण व्यक्तित्व “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
============================

हमें फेसबुक के क्यारिओं में रंग बिरंगी फूलों की पंखुडियों का आभास होने लगा ! …उनकी सुगंधों से नयी ताजगी मिलने लगी !… मन बाग़ -बाग़ होने लगा ! नए मित्रों के समवेशों ने जीवन में प्राण फूंक दिया !… श्रेष्ठ के सानिध्य में आने का अवसर मिला ! …कुछ नए- पुराने मित्रों के आगमन से नयी ताजगी का आ गयी ! फेसबुक सीमित परिधियों से झालंगें मारता अपने कनिष्ठों लोगों को भी गले लगा लिया ! क्षितिज के कोने -कोने तक हमारी महक पहुँचने लगी ! उन्होंने हमारी सभ्यता और संस्कृति को जाना और समझा और हम भी उनके करीब पहुँचने लगे !

भाषाएँ अब अवरोधक ना रहीं ! विचार ,लेख ,कविता ,कहानी ,व्यंग ,परिहास ,समालोचना ,टिप्पणियाँ ,समाचार इत्यादि पढ़कर हम तृप्त हो जाते हैं ! और देखते –देखते हम आपार जनसमूहों के सानिध्य में आने लगते हैं ! साहित्य परिचर्या ,विश्लेषण ,दृश्य अवलोकन इत्यादि के आदान -प्रदान से प्रेम ,आदर और सत्कार छलकता है और यूँ हमें सम्पूर्ण सकारात्मक व्यक्तित्व की अनभूति होने लगती हैं ! ..

मित्रता तो कई स्तंभों पर टिकी है परन्तु एक स्तंभ के बिना मित्रता चलना तो दूर दो कदम रेंग भी नहीं सकतीं ! ..वो “समान विचारधारा” का स्तंभ है ! इसके आभाव में मित्रता की सांसें फूल जाती है और धीरे -धीरे निष्प्राण होने लगती है ! इसके अलावे यदि इसमें राजनीति के कर्कश बोल का समावेश होने लगता है तो हम एक ” विभाजित व्यक्तित्व ” की श्रेणी में आ जाते हैं ! लगने लगता है कि हम अलग -अलग ग्रहों के प्राणी हैं ..फिर यह मित्रता रेंगने से भी कतराने लगती है !

राजनीति विचारधारा हरेक व्यक्ति में निहित होता है ! इन विचारधारा को शालीनता ,शिष्टाचार और माधुर्यता के सुगंधों से सिंचित करेंगे तो हमें फेसबुक के बागों में लोग निहारा करेंगे ..पर कर्कश बोल और दूषित टिप्पणी से लोग हमें ” विभाजित व्यक्तित्व ” की संज्ञाओं से ही मात्र विभूषित करेंगे !

हम भी अपने विचारों को रखते हैं पर इन विचारों को शालीनता से अपने टाइम लाइन की परिधियों तक ही सीमित रखते हैं ! किन्हीं के विचारों के रणक्षेत्र में प्रवेश करना निषेध समझते हैं ! अपने इन हथियारों का प्रयोग राजनीति मंचों पर करते हैं ! दोस्तों के बीच तो हमें सम्पूर्ण और प्रिय जो रहना है !

==========================================

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखण्ड
भारत

103 Views
You may also like:
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
Waqt
ananya rai parashar
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
बेबसी
Varsha Chaurasiya
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सिपाही
Buddha Prakash
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...