विभाजन की विभीषिका

मजहबी उन्माद ने मेरे भारत में जहर भरा
टूट गया गांधी का सपना भारत-पाकिस्तान बना
गहरे घाव दे गई त्रासदी मानवता का गला घुटा
बीस लाख लोग मर गए जहर से
डेढ़ करोड़ का पलायन हुआ
मानव इतिहास में पलायन की सबसे बड़ी त्रासदी थी
यही त्रासदी आतंकवाद की सबसे बड़ी वजह बनी
अलगाव चरमपंथ आज भी कई क्षेत्रों में उफान पर है
मारे जाते हैं निर्दोष मजहब के नाम पर चुन-चुन कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 27 Views
You may also like:
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
पिता
Anis Shah
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
किताब।
Amber Srivastava
मां
Anjana Jain
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...