Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2022 · 1 min read

विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है

भूख विन भोजन व्यर्थ है
गुण विन रूप व्यर्थ है
उपयोग विन धन व्यर्थ है
परोपकार विन जीवन व्यर्थ है
विद्या तप दान ज्ञान शील गुण धर्म विन,
मनुज जीवन व्यर्थ है
आप ही बताइए विन मानवीय मूल्यों के,
जीने का क्या अर्थ है?
भोजन मैथुन निद्रा में पशु भी समर्थ है?

Language: Hindi
7 Likes · 8 Comments · 340 Views
You may also like:
गुनाहों का सज्जा क्या दु
Anurag pandey
*महिला-आरक्षण (छह दोहे)*
Ravi Prakash
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
टविन टोवर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तक मैं
gurudeenverma198
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
" DECENCY IN WRITINGS AND EXPRESSING "
DrLakshman Jha Parimal
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
🌹खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️अरमानों की ख्वाईश
'अशांत' शेखर
सावन
Mansi Tripathi
इंतजार करो में आऊंगा (इंतजार करो गहलोत जरूर आएगा,)
bharat gehlot
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
दरख्तों से पूँछों।
Taj Mohammad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मैं भारत हूँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
हास्य दोहा अष्टमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वही मेरी कहानी हो
Jatashankar Prajapati
हरयाणा ( हरियाणा दिवस पर विशेष)
Varun Singh Gautam
चाँद पर खाक डालने से क्या होगा
shabina. Naaz
क्या ठहर जाना ठीक है
कवि दीपक बवेजा
Love never be painful
Buddha Prakash
आस्तीक भाग -तीन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लेखनी
लक्ष्मी सिंह
अनपढ़ बनाने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
Loading...