Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 23, 2022 · 1 min read

विनोद बाबू की जयंती पर कविता ।

विनोद बाबू की क्या जुबानी है।
उनकी वाणी में गरज और क्रांतिकारी है।
आज भी अमर उनके शब्द की वाणी है।
“लड़ना है तो पढ़ना सीखो”
यह सिख हमें सिखलाती है।
हमारी शिक्षा ही हमारी लाठी है।
झारखंड राज हमारी जानों से भी प्यारी है।
ये जुनून झारखंड वासियों में लाने वाले बिनोद बिहारी महतो बाबू हैं।
झारखंड आंदोलन संगठन इतिहास के
महानायक अमर मसीहा और झारखंड
वासियों के दिलों में आज भी जिंदा है।
उनके शब्द तभी तो लागू भेलो 1932
खतियान झारखंड जोहार।।

(झारखंड के कोख में जन्मने वाले 23 सितंबर सन 1923 ई. स्वर्गीय बिनोद बिहारी महतो के जयंती पर शत-शत नमन।)

1 Like · 50 Views
You may also like:
पिता
विजय कुमार 'विजय'
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Aruna Dogra Sharma
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा
सेजल गोस्वामी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पंचशील गीत
Buddha Prakash
Loading...