Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

विध्वंस रोकने को !

बीति रजनी
तम से कोसों दूर
दीप्त ,
एक स्वच्छ
सुदृढ , सुह्रद
उदय नवल प्रभात
धरा पर आती-
स्वर्णिम रश्मियाँ
तप-त्याग
प्रखर-पुँज की
अनंत शक्ति को
करती समाहित-
सौम्यता, सारगर्भित तथ्य को परखती !
विभा की रश्मियाँ
अनंत ब्रह्मांड से
आती –
दीखाती सत्य – संधान को ;
विघटित संसाधन के भयावह रूप को !
क्रूर ! निस्तेज !
नहीं ! नहीं!
तप-श्रेष्ठ सुगंधित पुण्य अवनी को,
सस्य-मृदुता, कोमलता ,
पुर्णता भरने
मानवता के प्रतिमूर्त्त रूप को
करने साकार
विघटन, पलायन के भयावह
विध्वंस रोकने को !


✍️ कवि आलोक पाण्डेय

89 Views
You may also like:
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️खलबली✍️
'अशांत' शेखर
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
'अशांत' शेखर
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
हर इक वादे पर।
Taj Mohammad
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
नादानियाँ
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
किसी को भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
विश्वासघात
Seema 'Tu haina'
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
दौलत देती सोहरत
AMRESH KUMAR VERMA
मां
Dr. Rajeev Jain
इश्क है यही।
Taj Mohammad
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
शम्बूक हत्या! सत्य या मिथ्या?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबको मतलब है
Dr fauzia Naseem shad
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
Loading...