Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

विधाता स्वरूप पिता

जिन्होंने मेरे उद्भव के पश्चात
अग्रु पकड़ पधारना सिखाया
क्षुद्रता में बिस्किट, चॉकलेट
मांगने पर कर देते अर्पण हमें
वही हमारे ईश्वर स्वरूप पिता ।

जिन्होंने प्रसव में दुराल के संग
त्रुटि होने पर हमें करते थे पिटाई
आज-कल भी पैसे मांगने पर वो
जेब विहीन के अवस्था में भी देते
वही हमारे जगदीश्वर स्वरूप पिता ।

जिन्होंने अद्भुत वसुंधरा पे से ही
हमें ब्रह्मांड , स्वर्ग का सैर कराये
अभी भी करता मानस है हमारा
न बड़ा होकर पितृ स्नेह खोने का
वही हमारे विधाता स्वरूप पिता ।

जिन्होंने मेरे हर सुख – दुख को
सदा से ही समझते आये अपना
तकलीफ में ले जाते वैध के पास
जो मेरे दिल में बसे रहते है सदा
वही हमारे परमपिता ब्रह्मा तुल्य ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

5 Likes · 8 Comments · 228 Views
You may also like:
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ
आकाश महेशपुरी
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
बुआ आई
राजेश 'ललित'
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुमत
मनोज कर्ण
Loading...