Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

विद्या बुद्धि देऊ मातु शारदे नमन करूँ, वाणी तन मन में शक्ति मातु भर दे!

विद्या बुद्धि देऊ मातु शारदे नमन करूँ,
वाणी तन मन में शक्ति मातु भर दे!
भर दे नवीन रंग ढंग मातु कविता में,
हर के कलेश सुखमय मातु कर दे!
कर दे तू मोपे मेरी मातु आज उपकार,
काव्य कला भेद सभी जानू मातु वर दे!
वर दे जननी वीणा वादिनी शरण तेरी,
कब से हूँ करता नमन मातु वर दे!

220 Views
You may also like:
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Shankar J aanjna
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Meenakshi Nagar
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Neha Sharma
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
Green Trees
Buddha Prakash
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता की याद
Meenakshi Nagar
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
Loading...