Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#25 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

विदाई की घड़ी आ गई है,,,

विदाई की घड़ी आ गईं है,,,
बिटिया मेरी पराई हो रही है।।
रोका बहुत इन आंखो को,,,
फिर भी आंसुओं से भरी जा रही हैं।।

शाम सुबह उसको ना पाकर,,,
पिता का हृदय रोएगा।।
जब जब याद आयेगी बिटिया की,,,
इन आंखो से आंसू छलक जायेगा।।

यादें उसकी बड़ा तड़पाएंगी,,,
आंखों को मेरे बड़ा रुलाएंगी।।
विदाई पर ही ह्रदय फट गया है,,,
पराए होने से यह रो पड़ा है।।

मेरे आंगन की वह छोटी सी गौरय्या थी,,,
दिनो रात चूं चूं करके वह गुनगुनाती थी।।
भाइयों की वह बड़ी चहेती थी,,,
मेरे घर की बिटिया संपन्नता की देवी थी।।

गुण है उसमें देवियों के जैसे,,,
हर ह्रदय को अपना बनाएगी।
मूरत है वह देवी की,,,
हर घर को स्वर्ग सा बनाएगी।।

इस जग की ये रीत किसने बनाई है,,,
अपनी होकर भी बिटिया होती पराई है।।
दर ओ दीवार, घर की गाय सब पूंछेंगें,,,
किस किस को बताऊंगा बिटिया की हो गईं शादी है।।

पलको की छांव में बिटिया को पाला है,,,
हे, ईश्वर तुम ही संभालना तुम्हारा ही सहारा है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 2 Comments · 182 Views
You may also like:
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
मनोमंथन
Dr.Alpa Amin
प्यार का अलख
DESH RAJ
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
निभाता उम्रभर तेरा साथ
gurudeenverma198
'शशिधर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लबों से बोलना बेकार है।
Taj Mohammad
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आया है प्यारा सावन
Dr Archana Gupta
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरे वजूद को।
Taj Mohammad
“ हृदयक गप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
आज नज़रे।
Taj Mohammad
हम कहाँ लिख पाते 
Dr.Alpa Amin
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
✍️शर्तो के गुलदस्ते✍️
'अशांत' शेखर
जिन्दगी का नया अंदाज
Anamika Singh
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️कांटने लगते है घर✍️
'अशांत' शेखर
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
Loading...