Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

विजयादशमी तभी मनायेंं

विजयादशमी के उत्सव को,
धूमधाम से सभी मनाते
नगर नगर में रावण के,
ऊँचे पुतले फूंके जाते

त्रेतायुग की उस घटना का,
ढोल पीटते नहीं अघाते
कलियुग में कितने रूपों में
रावण रहता, देख न पाते

रावण ने तो केवल छल से,
सीता का अपहरण किया था
सीता के ऊपर उसने तब,
बल प्रयोग तो नहीं किया था

युग बदला तो साथ समय के,
रावण भी अब बदल गया है
त्रेता युग के रावण से वह,
कोसों आगे निकल गया है

अवसर पाकर घात लगाकर,
नारी का शिकार करता है
सोने की लंका के कारण,
पत्नी दाह किया करता है

ये सारी रावण लीला,
हम मूक खड़े देखा करते हैं
विजयादशमी पर नकली
रावण को फूंका करते हैं

आज समय की मांग यही है,
मिलजुलकर सब आगे आएं
पहले इस रावण से निपटें,
विजयादशमी तभी मनाएं.

श्रीकृष्ण शुक्ल, मुरादाबाद

164 Views
You may also like:
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुध्द गीत
Buddha Prakash
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पिता की याद
Meenakshi Nagar
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कशमकश
Anamika Singh
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
Loading...