Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2021 · 1 min read

विचार

कोई किसी को कुछ नहीं बनाता,
जो बनता है व्यक्ति स्वयं अपनी क्षमता और योग्यता पर बनता है । मात-पिता और अन्य सहयोगी मात्र परिस्थिति निर्माण में सहयोग करते हैं किंतु यदि यह सहयोग ना मिले तब भी योग्यता अपना लक्ष्य स्वयं ही प्राप्त कर लेती है।

3 Likes · 3 Comments · 286 Views
You may also like:
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता
विजय कुमार 'विजय'
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता
Aruna Dogra Sharma
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
बेरूखी
Anamika Singh
पिता
Shailendra Aseem
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
कोई ऐसे धार दे
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
पिता
लक्ष्मी सिंह
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...