Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 5, 2016 · 1 min read

विचारो की गंगा

कब से मेरी रगो मे तू घूमती रही
प्रतिकूलता के कारण बाहर न आ सकी
ऐ मेरे विचारो ,जज्बातो की गंगा!
तू जगह जगह पहुंची पर
संगम से न मिल सकी

गंगोत्री से निकली तू, तो बहुत पवित्र थी
सैकडो मिले तुझसे, मिलकर प्रणाम किया
सैकडो ने सराहा,बहुतो ने तेरे सामने खुद को खाली किया
पर जायें कहां,ढूढें कहां वो विशाल जलराशि
जिसके आगोश मे समाकर लगे
कि गंगा ने संगम ,संगम ने समन्दर पा लिया
मेरी रगो मे दौड कर क्या तू थकती नही
मुझे छोडकर एक पल क्या तू जा सकती नहीं
कुछ देर रहने दे मुझे ,अपने बगैर अकेला
देखूं तो तुम बिन जिन्दगी भाती है या नहीं

164 Views
You may also like:
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
राम भरोसे (हास्य व्यंग कविता )
ओनिका सेतिया 'अनु '
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
न कोई चाहत
Ray's Gupta
पिता
Satpallm1978 Chauhan
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
सफर में।
Taj Mohammad
सुंदर बाग़
DESH RAJ
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
हर रोज योग करो
Krishan Singh
उम्मीद से भरा
Dr.sima
Loading...