Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

विचलित मन

मानस होता चंचल हमारा
कभी कुछ तो कभी कुछ
हर लम्हें ये विचलित मन
कुछ न कुछ ब्योरना रहता ।

कभी कभी ये मन हमारा
खोया – खोया सा लगता
कुछ खाने -पीने का न हमें
करता हमारा विचलित मन ।

ये चित्त हमारा कभी उत्तम
कभी अधम की ओर जाता
जैसा हम देखते – सोचते
उधर ही जाता विचलित मन ।

हमारा ये विचलित मन
कभी इधर तो कभी उधर
करता रहता ये बार – बार
विचलित मन न रहता स्थिर ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

198 Views
You may also like:
✍️इँसा और परिंदे✍️
'अशांत' शेखर
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
ज़िंदगी देती।है
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
✍️बेसब्र मिज़ाज✍️
'अशांत' शेखर
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
'खिदमत'
Godambari Negi
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
Love never be painful
Buddha Prakash
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
'मृत्यु'
Godambari Negi
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
ऐसा क्या है तुझमें
gurudeenverma198
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
कर्म करो
Anamika Singh
दरख्तों से पूँछों।
Taj Mohammad
माँ का प्यार
Anamika Singh
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
गीता की महत्ता
Pooja Singh
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
Loading...