Sep 11, 2016 · 2 min read

वाह रे अपनत्व

प्रस्तुत है एक कथ्य……
“वाह रे अपनत्व”

झिनकू भैया दौड़-दौड़ के किसी को पानी पिला रहे हैं तो किसी को चाय और नमकीन का प्लेट पकड़ा रहें है। किसी को सीधे-सीधे दोपहर के खाने पर ही हाल- हवाल बतला रहे हैं। सुबह से शाम जब भी किसी का झोला उठ जाता तो उसको बस पकड़ा रहें होते हैं। कभी सामान से भरी अटैंची उठाए रेल के डिब्बे से धीरे उतरना चाची, मामी, बूआ या दीदी को पकड़े हुए स्टेशन से अंदर- बाहर हो रहें होते हैं। न रात की नींद न दिन का चैन, बाबू जी की बीमारी एक बाजू रही, खुदे बीमार जैसे हो गए हैं। बढ़ी हुई दाढ़ी और उतरी हुई सूरत लिए सभी के आंसू पोछ रहे हैं। आज दस दिन हो गए निर्मला भौजी ने घर का मुंह नहीं देखा, बाबू जी की सेवा में हॉस्पिटल की विस्तर पर बैठे- बैठे आँख भरमा लेती है। ज्योही कमर सीधी करने के लिए करवट बदलती हैं……अरे बहु, तनिक पानी पिला दो, और वह फिर बैठ जाती हैं। घर पर बच्चे नौकरानी मौसी के साथ आये हुए मेहमानों की आव-भगत में लगे हुए हैं न कोई स्कूल न को कोई ऑफिस।पूरा घर मानों बीमार हो गया है, हाँ मेहमान खूब जलसा कर रहे हैं, कोई शहर घूम के आ जाता है तो कोई मंदिर में भगवान का धन्यवाद कर आता है कि इसी बहाने इस शहर और आप का दर्शन हो गया। बड़की बूआ ने तो हद ही कर दिया, अरे झिनकू बेटा, बुरा न मानों तो एक बात कहूँ, अब आ ही गई हूँ तो साईंबाबा के दर्शन कर आती हूँ रास्ते में मनौती मान ली हूँ कि भैया सही सलामत मिले तो बाबा के दर्शन जरूर करुँगी।ऐसा कर कल का दो टिकट ले लेना मैं और तेरी छोटकी बूआ मानता पूरी करके परसों आ जायेंगे फिर दो दिन की थकान उतार कर गाँव के लिए निकलेंगे, घर एकदम खाली छोड़कर आई हूँ न जाने चौवा- चांगर कैसे होंगे, बड़ी चिंता सता रही है। ये तो भाई की बात थी नहीं तो जंजाल से मुक्ति कहाँ मिलती है। अब भैया की बीमारी तो उमर के हिसाब से जल्दी सुधरने वाली है नहीं, कितने दिन तुम्हारे ऊपर भार बनकर रहूंगी, भूलना मत बेटा कल का टिकट जरूर लेते आना, और स्टेशन जा ही रहे हो तो गाँव जाने का टिकट भी ले ही लेना। अरे वो चंपा (नौकरानी) जरा बढियां सी चाय तो पिला दे, सर फटा जा रहा है, न जाने शहर में लोग कैसे छोटे से मकान में रह जाते हैं न हवा न धूप, राम राम……उईईईईई माँ कहते हुए बेड पर पसर जाती हैं।
ख़ुशी के मौके अतिथि देवो भव, पर बीमारी के मौके पर देखने, खबर पूछने वालों का यह रूप किस एंटीबायोटिक्स का इंतजार कर रहा है। जो भी हो किसी परेशान की परेशानी में मदद रूप अच्छा लगता है और सांत्वना देता है भार तो भार होता है जिसे कहकर नहीं उतारा जा सकता, दृष्टिकोण में चाहना होनी चाहिए दिखावे में नहीं……..

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

110 Views
You may also like:
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
आजमाइशें।
Taj Mohammad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
वो
Shyam Sundar Subramanian
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां-बाप
Taj Mohammad
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
Loading...