Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Jan 20, 2017 · 1 min read

वादों के फिर सज गए , राजनीति बाजार

वादों के फिर सज गए , राजनीति बाजार
वोट कमाने दल सभी , ढूंढ रहे आधार
ढूंढ रहे आधार ,पेश नर्मी से आते
मिलते कहीं गरीब, उन्हें अब गले लगाते
दिए अर्चना काट , पेड़ पिछली यादों के
और लगायें बाग़, नए मीठे वादों के
डॉ अर्चना गुप्ता

142 Views
You may also like:
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H. Amin
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
अस्मतों के बाज़ार लग गए हैं।
Taj Mohammad
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
हमारी धरती
Anamika Singh
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
शीतल पेय
श्री रमण
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
चित्कार
Dr Meenu Poonia
पापा हमारे..
Dr. Alpa H. Amin
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
मंदिर
जगदीश लववंशी
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
If we could be together again...
Abhineet Mittal
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
Loading...