Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2018 · 1 min read

वाक्य से पोथी पढ़

शिशु की अंगुलि थामे , पिता शाला लाएं ।
हिय के बसत दुलारे , गुरु पग छाड़ि आएं ।।
कर जोड़ कर कि नमन , तुम ही ज्ञान दाता।
बनाना सुत सुजान , तुम्ही भाग्य -विधाता ।
भाल झुके न माँ का , बढ़ै तात का मान ।
दिनकर बने नभ का , जग पाएगा सम्मान।।
प्रथम सत्र शाला कि, मनवां रहा फीखा ।
वर्ण शब्दों में ढ़ाल , हार गुँथना सीखा ।।
वाक्य से पोथी पढ़, अंतर अभिलाषा भर ।
सवप्न की उड़ान गढ़, मिटा बचपन का घर।।
पन्ने पढ़ भरा ज्ञान , उधि भरने का गुमान ।
मील दूर नव सृजन, फल विहीन प्रतान ।।
श्र्वेत-श्याम मेल से , चढ़ा नहि चौखा रंग ।
मर रही मर्यादाएं , रीति साजी बदरंग ।।
जनहित काज न आएं, अंधकार है नदान।
खण्ड-खण्डित सकल बंधन, संभल जा ऐ इंसान।।
============================
शेख जाफर खान

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 5 Comments · 479 Views
You may also like:
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
सिर्फ तेरा
Seema 'Tu hai na'
चुनाव आते ही....?
Dushyant Kumar
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
“ कोरोना ”
DESH RAJ
ये प्रवाह है नवोदित
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
हे मंगलमूर्ति गणेश पधारो
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Ray's Gupta
✍️बेपनाह✍️
'अशांत' शेखर
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
जो मैंने देखा...
पीयूष धामी
कितने आंखों के ख़्वाब नोचें हैं
Dr fauzia Naseem shad
*शादी के वह सेहरे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जात-पात के आग
Shekhar Chandra Mitra
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
बदला
शिव प्रताप लोधी
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
प्रतिस्पर्धा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कलयुग का परिचय
Nishant prakhar
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
Loading...